Thursday, December 26, 2013

हाँ! कैलेण्डर बदल रहा है...

उस फुटपाथ किनारे
बैठी बूढ़ी का बदन
अब भी अधनंगा है
उस मौसम की मार
झेले किसान की आंख
से बहती अब भी गंगा है...
हाँ कुछ कानून और
सरकारी फंड
औरत को सुरक्षा देने आये हैं
पर कमबख़्त ये भी
उसकी अस्मिता को लुटने
से न बचा पाये हैं...
वो बेरोजगार लड़का
अपनी जेब में आज भी
सेल्फास लेके निकलता है
समाज़ के दकियानूसी
रिवाज़ों का मिजाज न
तनिक भी बदलता है...
और सुना है कि
उन भ्रष्ट लोगों को भी
क्लीन चिट मिल गई है
मानो न्याय की इमारत ही
अपनी जमीन से हिल गई है
कुछ भी तो नहीं बदला
वही शासन
वही आसन
वही लोग और
कुछ वैसे ही रोग

अरे हाँ!!!
ज़रा दीवार पे तो देखो
कैलेण्डर बदल रहा है...
चलो मिलके जश्न मनाते हैं.....

20 comments:

  1. अरे हाँ!!!
    चलो मिलके जश्न मनाते हैं.....
    वाह कितने गहरे अहसासों को पिरोया है ………बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया संजयजी..

      Delete
  2. गहरे अहसास............बहुत सुन्दर.........

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल शनिवार (28-12-2013) "जिन पे असर नहीं होता" : चर्चा मंच : चर्चा अंक : 1475 पर होगी.
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है.
    सादर...!

    ReplyDelete
    Replies
    1. जी धन्यवाद आपके चिट्ठे में जगह देने के लिये।।।

      Delete
  4. अपने मन की अहसासों सुंदर की प्रस्तुति ...!
    Recent post -: सूनापन कितना खलता है.

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद आपका।।।

      Delete
  5. सच है, कहीं कुछ नहीं बदला केवल कलेंडर का पन्ना बदला !
    नई पोस्ट मेरे सपनो के रामराज्य (भाग तीन -अन्तिम भाग)
    नई पोस्ट ईशु का जन्म !

    ReplyDelete
    Replies
    1. जी आता हूँ आपके आंगन में...शुक्रिया प्रतिक्रिया हेतु

      Delete
  6. सही कहा आपने

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया ओंकार जी।।।

      Delete
  7. बहुत ही लाजवाब रचना ...
    :-)

    ReplyDelete
  8. बदलते रहेंगे केलेंडर और नेता भी ऐसे ही ... पर नहीं बदलेगा ये समाज ये समय ... जो इंतज़ार कर रहा है आदमी के आदमी होने का ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. सही कहा दिगम्बरजी...इन हालातों के बदलने की उम्मीद पाले हुए ही जिंदगी गुज़र जाती है..शुक्रिया आपकी प्रतिक्रिया के लिये।।।

      Delete

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

Post Comment