Saturday, January 5, 2019

बगल वाली सीट

क्लासरूम में
अर्थशास्त्र की शायद उस
कक्षा के बीच
खाली पड़ी अपनी बैंच के
बगल में
यकायक आ बैठा था कोई
और फिर मुश्किल था
समझना
जीडीपी और मानव विकास सूचकांक
के जोड़-तोड़ या किसी गणित को।
क्योंकि,
फिर.... डोपामीन या फिनाइल एथिलामाइन
जैसे रसायनों ने शुरु कर दिया था
दिखाना अपना असर।

बगल वाली सीट का 
ये पहला कमाल था...
न चाहते हुए भी
रूह में उठा इक धमाल था।
और प्रेम रसायनों के उत्सर्जन से
समझ, सोच या विवेक जैसे
शब्दों का शुरु हो चुका था
जीवन से पलायन।

जीवन के अगले हिस्सों में 
फिर-फिर बढ़ता गया 
उस बगल वाली सीट का अधिकार।
पहले शायद शैक्षिक भ्रमण के दौरान
वो बस में बगल वाली सीट पर।
फिर कभी किसी रिक्शॉ में
थामा था हाथ पहली मर्तबा...
बगल वाली ही उस सीट पर।
कभी किसी सिनेमाघर में,
कभी किसी रेस्टॉरेंट या 
कभी किसी संगोष्ठी को सुनते हुए...
बगल वाली सीट पर, 
कुछ और देखने-सुनने के बजाय
वे करते थे बिना कुछ कहे-सुने
एक दूसरे के ही विचारों या भावों 
का आदान-प्रदान।

और फिर...
दफ़्तर से घर...घर से दफ़्तर के दरमियां।
अमूमन हर रोज़ ही।
ड्राइविंग सीट पर वो,
और बगल वाली सीट पर तुम
करते हुए बेइंतहा बात
लंबे रास्ते को भी 
चंद लम्हों में ही बिता देते थे।
और लगता था 
ये रास्ता इतना छोटा क्युं है?

अब,
दुनिया को खाली दिख रही
वो बगल वाली सीट
उस आवारा के लिये
अब भी किसी के होने का 
अहसास जगाती है....
और, वो सिरफिरा
रास्तों के बीच...
खाली पड़ी अपनी गाड़ी में
बगल वाली सीट से ही
बड़बड़ाता हुआ
करता है
चपड़-चपड़।
पचड़-पचड़।।

23 comments:

  1. बहुत सुंदर गहरे एहसास और भावों से परिपूर्ण बेहद परिपक्व शानदार रचना अंकुर जी...नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाएँ।
    इतने लंबें अंतराल पर पढ़ी आपकी कविता...बहुत अच्छी लगी।

    ReplyDelete
  2. बहुत शानदार अंकुर भाई
    हर किसी को कितनी अपनी ही लगती है ये कविता

    ReplyDelete
  3. बहुत खूब ...
    कई दिनों के बाद असल रंग नज़र आ रहा है आपका ...
    बगल वाली सीट का असर है या उसके खाली होने का ... रूर से रूह तक पहुंची एहसास भरी रचना है ...

    ReplyDelete
  4. जी नमस्ते,
    आपकी लिखी रचना मंगलवार ८ जनवरी २०१९ के लिए साझा की गयी है
    पांच लिंकों का आनंद पर...
    आप भी सादर आमंत्रित हैं...धन्यवाद।

    ReplyDelete
  5. समय के साथ क्या से क्या हो जाता है।
    गहरे भाव लिये सुंदर रचना।

    ReplyDelete
  6. वाह!!बहुत खूब!!

    ReplyDelete
  7. और प्रेम रसायनों के उत्सर्जन से
    समझ, सोच या विवेक जैसे
    शब्दों का शुरु हो चुका था
    जीवन से पलायन।
    बहुत लाजवाब....
    वाह!!!

    ReplyDelete
  8. वाह! पहले शब्द से लेकर अंतिम शब्द तक मुझे बांधे रखा...पूरी रचना पढ़ गया और पता ही नहीं चला। हृदय स्पर्शी रचना। भाव उभर के आए हैं। अप्रतिम।

    ReplyDelete
  9. अलग सी अपनी बात कहती एक सुन्दर पोस्ट जो बीते समय को फिर से अपने पास रोक कर रखने की उम्मीद जगाती है ...बहुत खूब ...

    ReplyDelete
  10. रासायनिक ऊर्जा से लबरेज रचना ... अनोखे अंदाज़ में

    ReplyDelete
  11. बहुत सुंदर भाव लिए दिल को छूती रचना।

    ReplyDelete
  12. बहुत सुंदर भाव लिए दिल को छूती रचना।

    ReplyDelete
  13. इतना बढ़िया लेख पोस्ट करने के लिए धन्यवाद! अच्छा काम करते रहें!। इस अद्भुत लेख के लिए धन्यवाद ~Ration Card Suchi

    ReplyDelete
  14. webinhindi
    आपकी वर्णन बहुत ही सुंदर है। मुझे पढ़कर बहुत अच्छा लगा। आपकी वाक्य बहुत ही स्पष्ट है।

    ReplyDelete
  15. Very good write-up. I certainly love this website. Thanks!
    hinditech
    hinditechguru

    make money online

    ReplyDelete
  16. Very good write-up. I certainly love this website. Thanks!
    hinditech
    hinditechguru

    make money online

    ReplyDelete
  17. Very good write-up. I certainly love this website. Thanks!
    hinditech
    hinditechguru

    make money online

    ReplyDelete
  18. What a great post!lingashtakam I found your blog on google and loved reading it greatly. It is a great post indeed. Much obliged to you and good fortunes. keep sharing.shani chalisa

    ReplyDelete
  19. बगल वाली सीट के कमाल के रंग देखने को मिले, वाकई दिल को छू गयी रचना

    ReplyDelete
  20. जी नमस्ते,
    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा सोमवार(२४-०२-२०२०) को 'स्वाभिमान को गिरवी रखता'(चर्चा अंक-३६२१) पर भी होगी।
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट अक्सर नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    आप भी सादर आमंत्रित है
    ….
    अनीता सैनी

    ReplyDelete
  21. उत्तरप्रदेश विधवा पेंशन योजना, उत्तरप्रदेश किस्सान आवास क़िस्त योजना ,उत्तरप्रदेश बाल श्रमिक विधा योजना, उत्तरप्रदेश मुर्गीपालन लोन योजना, उत्तरप्रदेश विश्वकर्मा सम्मान योजना, अनेक योजना का आम जन के विकास और समृद्धि पूर्ण जीवन यापन हेतु चलायी जा चुकी है. ऐसे सभी तरह कि Sarkari yojana Form भरकर अप्लाई जरुर करे, आप योग्य हुए तो योजना का लाभ मिलेगा

    ReplyDelete

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

Post Comment