Friday, April 18, 2014

तेरे हिस्से का वक्त

तुमने देखा ही होगा
अचानक 
नीरव गगन में बिजली का कौंधना,
चौंधिया जाती है जिससे निगाहें अक्सर

और युं ही
महसूस भी किया होगा
निस्तब्ध दुपहरी में
यकायक गर्म लपटों का चलना
कमबख़्त बिखेर देती है हमें..

और हाँ,
शांत पड़े समंदर में
सहसा उठी लहरों को भी
देखा ही होगा न
जो तीर पे खड़े इंसा को
चौंका देती है बिना इत्तला किये ही..

ये सब नज़ारे तो बस एक नज़ीर हैं
अपने रुहानी हालातों
को बयां करने के लिये
जो हालत तेरी यादों की 
जुंबिशों की वजह से हुई है

अक्सर मेरे रूह के आसमान
पर कौंधती है तेरी यादों की बिजली
अक्सर चलती है उन अहसासों की लपटें
जो जज़्बात मिले थे मुझे

तेर संग बिताये लम्हों से
और ऐसे ही उठती है
कुछ खयाली लहरें
मेरे दिल के समंदर में...
और यकीन मान
हर बार संभलने के बावजूद
मैं फिर बिखर जाता हूँ...

तुझे भुलाकर एकदम,
मैं बढ़ चुका हूँ आगे
और कर लिया है खुदको
मशरूफ इतना
कि अब रात-दिन का
हर एक पल बस मेरे
अपने लिये ही फना है
और न रह गई है फुरसत
मुझे
अब किसी बेबुनियाद
जज़्बात को लेकर

पर फिर भी सुन ऐ सितमगर!
तेरी याद,
वो ख़याल
और वो अधूरे जज़्बात
अब भी
मुझे बिखेरने में
कोई कसर नहीं छोड़ते...
और 
इस मशरूफियत के बावजूद
तेरे हिस्से का वक्त
अब भी
खाली गुज़रता है...

21 comments:

  1. SIR I REALLLY LIKED YOUR POEM :) SUM REALLY GOOD LINES GO TOUCHED

    ReplyDelete
  2. Replies
    1. आभार राकेशजी....

      Delete
  3. बहुत ख़ूबसूरत अहसास...

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद कैलाशजी...

      Delete
  4. तेरे हिस्से का वक़्त अब भी खाली गुजारता हूँ ...
    कितन एहसास सिमिट आते होंगे उस पल में उस वक़्त में ... घर एहसास लिए ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. हाँ सिमटते तो वाकई कई अहसास हैं पर वो सिमटे अहसास ही बड़े मुश्किल होते हैं :) शुक्रिया प्रतिक्रिया हेतु नासवाजी।।।

      Delete
  5. khuda kasam.....khudkushi haraaam na hota to is kavita pe jaaan waaar deta miyan...................nehayat hi umda......bechainiya or badh gaeeee padh ker.....!!

    ReplyDelete
    Replies
    1. अमां ताबिश मियाँ..ये तो आप जैसे जानशीं दोस्तों का कमाल है जो हुनर के कुछ छीटें आप सबकी दुआओं की बदौलत खुदा ने हम पर भी बिखेर दिये हैं...इस दिल से निकली प्रतिक्रिया के लिये शुक्रिया आपका।।।

      Delete
  6. दिल के जज्बातों को खूबसूरती से शब्दों में बाँधा है ..बहुत खूब ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद राजेश कुमारी जी...

      Delete
  7. इस मशरूफियत के बावजूद
    तेरे हिस्से का वक्त
    अब भी
    खाली गुज़रता है......बहुत सुंदर अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  8. Well the modern era needs some poems like this , I mean we have to bring an EVOLUTION in the old hindi literature otherwise Eng literature"ll really dominate our country :(
    Please have a look on this sir (my first hindi poem on the blog)

    MANJIL KI TALAASH MEIN

    ReplyDelete
  9. अहसास को स्पर्श करती कविता..

    ReplyDelete
  10. आपकी लिखी रचना "पांच लिंकों का आनन्द में" गुरुवार, आज 22 अक्तूबर 2015 को में शामिल किया गया है।
    http://halchalwith5links.blogspot.in पर आप सादर आमत्रित है ......धन्यवाद !

    ReplyDelete

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

Post Comment