Friday, August 9, 2013

डिस्टर्ब

वो 
आते-मुस्काते
बतियाते-खिलखिलाते
पर जाते-जाते
जाने ये क्यूं कह जाते
कि कहीं हमने आपका कीमती,
वक्त तो नहीं लिया..
कि कहीं हमने आपको
डिस्टर्ब तो नहीं किया।


फिर क्या था,
धीरे-धीरे 
हम उनके डिस्टर्ब करने 
में खोने लगे
और
उनके डिस्टर्ब न करने से
और भी ज्यादा डिस्टर्ब 
होने लगे
पर वो अब भी न समझे
और हमसे ये कहते रहे
कि कहीं हमने आपका कीमती,
वक्त तो नहीं लिया..
कि कहीं हमने आपको
डिस्टर्ब तो नहीं किया।


पर हमें भी समझ न ये आये
जो जाके उन्हें बताए
कि सांसों के चलने से
हसरत मचलने से
दिल के धड़कने से
कोई 'डिस्टर्ब नहीं होता'।।

20 comments:

  1. बेचैनियों का सबब ...बस येही है !
    पता तो चला ही लिया ,,मुबारक हो :-))

    ReplyDelete
    Replies
    1. अशोकजी आपका अंदाजा गलत है..बस ऐसे ही लिख दी गई ये कविता :-))
      वैसे आभार आपकी प्रतिक्रिया के लिये...

      Delete
  2. शायद हमने जुड़ाव को दखलंदाज़ी समझ है ..... बढ़िया लिखा है....

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया मोनिका जी...

      Delete
  3. कि सांसों के चलने से
    हसरत मचलने से
    दिल के धड़कने से
    कोई 'डिस्टर्ब नहीं होता'।।

    लाजबाब अभिव्यक्ति,,,,

    RECENT POST : तस्वीर नही बदली

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया धीरेन्द्र जी...

      Delete
  4. Beautifully written!
    Remain undisturbed with all the lovely intrusions!

    ReplyDelete
    Replies
    1. absolutely right anupamaji...thnx 4 ur cmnt :)

      Delete
  5. बहुत बेहतरीन लिखा...

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया रंजना जी।।।

      Delete
  6. सच है, मन की स्थिति है..अब कोई नहीं आये तो मन व्यथित हो जाता है।

    ReplyDelete
    Replies
    1. बिल्कुल सही प्रवीणजी..अकेलापन खुद अपने आप में एक डिस्टर्बेंस है...

      Delete
  7. क्या बात है ... जहां सांसों की बात हो वहां तो संजीवनी हैं उका डिस्टर्ब करना भी ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद दिगम्बर जी..

      Delete
  8. सांसों के चलने से
    हसरत मचलने से
    दिल के धड़कने से
    कोई 'डिस्टर्ब नहीं होता'
    बहुत सुन्दर अंकुर जी .मन के भावों को बहुत खूबसूरती से व्यक्त किया है .

    ReplyDelete
  9. धन्यवाद...राजीव जी।।।

    ReplyDelete
  10. बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति .. आपकी इस रचना के लिंक की प्रविष्टी सोमवार (19.08.2013) को ब्लॉग प्रसारण पर की जाएगी, ताकि अधिक से अधिक लोग आपकी रचना पढ़ सकें . कृपया पधारें .

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया आपका...

      Delete
  11. मन के भावों की सुन्दर प्रस्तुति .........कृपा मेरे ब्लॉग पर भी पधारे ......धन्यवाद. ........

    ReplyDelete

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

Post Comment