Wednesday, July 31, 2013

On My 25th Birth-Day

उलझनें बनी हुई, फासले भी जस की तस
मंजिलों को छोड़, आगे रास्ता है बढ़ गया।
देखते ही देखते ये साल भी गुज़र गया......

  

चल रही है श्वांस, किंतु जिंदगी थमी हुई
रूह की दीवार पर, धूल है जमी हुई।
दाग गहरा छोड़के, देखो! ज़ख्म भर गया।।
देखते ही देखते.....

   


रंजिशों की मार से, जाने क्या है हो गया
मिल गया जवाब पर, सवाल ही है खो गया।
वक्त को आगे बढ़ा, वो पल वहीं ठहर गया।।
देखते ही देखते......




हो रहा है मिलन, पर बढ़ रहे शिकवे गिले
चीख सन्नाटों की है, सूनी पड़ी पर महफिलें।
ख्वाहिशों का दफन, देखने सारा शहर गया।।
देखते ही देखते.....




 होंठ पे मुस्कान है, पर आंख में आंसू भरे
मौत की आहट से ये, मासूम दिल क्युं न डरे?
झोपड़ी खड़ी रही और महल बिखर गया।।
देखते ही देखते....



 दिल की दुनिया ढूंढने में, खुद को हम खोने लगे
परम्परा के नाम पर, रुढियां ढोने लगे।
मर्ज़ की दवा थी वो, पर रग़ों में ज़हर गया।।
देखते ही देखते.....




रास्तों को खोजता, जाने क्या-क्या सोचता, हूं मैं वही खड़ा हुआ
ज़ख्म सीने में लिए, गिरते संभलते हुए, मजबूरी में पड़ा हुआ।
इस भोर में सूरज निकल, इक दिन का क़त्ल कर गया।।
देखते ही देखते ये साल भी गुज़र गया...........
मंजिलों को छोड़, आगे रास्ता है बढ़ गया
देखते ही देखते.......


अंकुर 'अंश'

23 comments:

  1. बहुत बहुत बधाईयां, ढेरों शुभकामनाएं!

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद मनोज जी....

      Delete
  2. Birthday wishes conveyed in a message that I just posted disappeared:(

    Anyways, Wishing you a very happy birthday!
    The way poem looks back and reflects upon is appreciable!
    Best wishes!!!

    ReplyDelete
  3. रंजिशों की मार से, जाने क्या है हो गया
    मिल गया जवाब पर, सवाल ही है खो गया।
    वक्त को आगे बढ़ा, वो पल वहीं ठहर गया।।..

    बहुत खूब ... रंजोशें जोतना जल्दी खत्म हों ... जीवन उतना ही सहज होता है ... और हां .. साल तो यूं ही बीत रहे हैं ... बीतेंगे भी ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया आपका....

      Delete
  4. हर साल नयी आशा लेकर आयेगा, शुभकामनायें।

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद प्रवीणजी...

      Delete
  5. देखते ही देखते ये साल भी गुज़र गया......
    अंकुर जी एक बार फिर बधाई। । दिन महीने साल ऐसे ही गुजरते जायेंगे बस
    इन गुजरे हुए पलो में कुछ एस करते जाये कि लोग मजबूर होकर याद करते रह जाये। ……

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत शुक्रिया जीजाजी...

      Delete
  6. जन्मदिन की बहुत बहुत बधाई और शुभकामनाएं !!

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद रंजना जी...

      Delete
  7. बहुत बहुत बधाई और शुभकामनाएं

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद आपका...

      Delete
  8. Happy Birth Day To You.... Lots Of Best Wishes

    ReplyDelete
  9. जन्मदिवस की हार्दिक शुभकामनाये ,

    ReplyDelete
  10. जन्मदिन की बहुत बहुत बधाई और शुभकामनाएं !अंकुर जी ,,,

    RECENT POST: तेरी याद आ गई ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद धीरेंद्र जी...

      Delete
  11. कितना कुछ होगया देखते देखते । बहुत दिल से लिखते हैं आप ।
    जन्मदिवस की बधाइयां । आपका ये वर्ष खुशियों से भरा हो बेचैनियो से नही ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया आशाजी।।।

      Delete
  12. देरी से आने के लिए माफ़ी चाहूँगा अंकुर भाई
    जन्मदिन की बहुत बहुत बधाई और शुभकामनाएं !!

    ReplyDelete

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

Post Comment