Saturday, May 14, 2016

वो लाड़ला बेटा

उस रोज़ जब
रेलवे स्टेशन पर
वो आई थी छोड़ने
अपने इकलौते बेटे को
तो
उसने अपने दोस्तों के आने से पहले
कहा था अपनी माँ से
लौट जाओ तुम यहाँ से।

माँ की फटी साड़ी,
पैरों में घिसी चप्पल
और उसका थका चेहरा
पहुंचा रहा था शायद
उस बेटे की
इज्जत को ठेस।

पर वो बेशर्म माँ,
देखना चाहती थी
अंतिम घड़ी तक 
अपने लाड़ले बेटे का मुखड़ा
ट्रेन के छूट जाने से पहले।

एक थैली में
अचार-पापड़ का डिब्बा,
बेसन के लड्डू
और कुछ पूड़ियों के संग
रखी थीं उसने गर्मी से बचने की हिदायतें
उस रोज़।

पर, 
इन तमाम हिदायतों से परे
वो बस भगा देना चाहता था 
अपनी माँ को उस स्टेशन से दूर।

फिर क्या,
अपने बेटे की जिद से मजबूर
वो माँ चल दी वहां से
पर जाते-जाते भी कहती रही
कि न निकलना धूप में बाहर
न खाना होटलों का बासा खाना
और लौट आना परीक्षा के बाद तुरंत ही।

माँ की इन नसीहतों पर झल्लाकर
आखिर उसकी जुवां ने यह कह ही दिया
'मैं कोई बच्चा नहीं..अब जाओ भला यहाँ से'

कुछ रोज़ बाद
शायद मदर्स डे पर
की पोस्ट फेसबुक पे उसने,
माँ के साथ ली गई एक सेल्फी...।
और किसी शायर की शायरी के साथ
लिखा नीचे उसके
"वर्ल्ड्स बेस्ट मॉम"

10 comments:

  1. हकीकत को बयाँ करती खूबसूरत रचना।

    ReplyDelete
  2. स्वयं को औरों के जैसा ही दिखाने की मजबूरी कहें या अपने हकीकत को नकारना। भावपूर्ण प्रस्तुति।

    ReplyDelete
  3. स्वयं को औरों के जैसा ही दिखाने की मजबूरी कहें या अपने हकीकत को नकारना। भावपूर्ण प्रस्तुति।

    ReplyDelete
  4. सुंदर और भावपूर्ण

    ReplyDelete
  5. सुन्दर भावपूर्ण ... संवेदनशील अभिव्यक्ति है ...का के प्रति समर्पण ही ऐसे भाव जागृत करता है ...

    ReplyDelete
  6. माँ आखिर माँ होती है...माँ के जैसा दुनिया में कोई भी नही है .....आपने अपनी इस रचना में माँ का वर्णन किया है ..जिससे इस रचना में अपनाप जान सी आ गयी है...ऐसी ही रचनाओं को आप शब्दनगरी में प्रकाशित कर सकतें हैं...

    ReplyDelete
  7. जय मां हाटेशवरी...
    अनेक रचनाएं पढ़ी...
    पर आप की रचना पसंद आयी...
    हम चाहते हैं इसे अधिक से अधिक लोग पढ़ें...
    इस लिये आप की रचना...
    दिनांक 15/07/2016 को
    पांच लिंकों का आनंद
    पर लिंक की गयी है...
    इस प्रस्तुति में आप भी सादर आमंत्रित है।

    ReplyDelete
  8. माता कुमाता न भवति - पुत्र के लिये क्या कहें ...

    ReplyDelete
  9. यही आज के पीढ़ी की कड़वी सच्चाई है। सुंदर प्रस्तुति।

    ReplyDelete

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

Post Comment